प्रधानमंत्री मोदी 16 मई को नेपाल के लुम्बिनी जायेंगे, देउबा के साथ करेंगे द्विपक्षीय बैठक

नयी दिल्ली/काठमांडू. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 16 मई को बुद्ध पूर्णिमा के अवसर पर अधिकारिक दौरे पर नेपाल के लुम्बिनी जायेंगे जो महात्मा बुद्ध की जन्मस्थली है. विदेश मंत्रालय ने बृहस्पतिवार को यह जानकारी दी. विदेश मंत्रालय से जारी एक बयान के अनुसार, प्रधानमंत्री मोदी नेपाल के अपने समकक्ष शेर बहादुर देउबा के निमंत्रण पर 16 मई को लुम्बिनी जायेंगे . वर्ष 2014 के बाद प्रधानमंत्री मोदी की यह पांचवी नेपाल यात्रा होगी .

लुम्बिनी में दोनों देशों के प्रधानमंत्री द्विपक्षीय वार्ता करेंगे तथा भारत-नेपाल सहयोग तथा साझा हितों से जुड़े मुद्दों पर विचारों का आदान प्रदान करेंगे. विदेश मंत्रालय के बयान के अनुसार, प्रधानमंत्री लुम्बिनी में मायादेवी मंदिर में पूजा अर्चना करेंगे. उनका नेपाल सरकार के तहत आने वाले लुम्बिनी विकास ट्रस्ट द्वारा बुद्ध जयंती के अवसर पर आयोजित एक समारोह को संबोधित करने का भी कार्यक्रम है. इसके अलावा प्रधानमंत्री वहां प्रस्तावित बौद्ध संस्कृति एवं धरोहर केंद्र के शिलान्यास समारोह में भी हिस्सा लेंगे.

मंत्रालय के अनुसार, दोनों प्रधानमंत्रियों के बीच द्विपक्षीय बैठक भी होगी. इसमें कहा गया है कि मोदी की यात्रा दोनों देशों के बीच नियमित उच्च स्तरीय सम्पर्क को जारी रखने तथा हमारे पड़ोस प्रथम नीति के अनुरूप है जो भारत और नेपाल के लोगों के सभ्यातागत धरोहर को साझा करता है.

वहीं, नेपाल के विदेश मंत्रालय ने कहा कि मोदी बुद्ध जयंती के अवसर पर आयोजित विशेष कार्यक्रम में हिस्सा लेंगे. लुम्बिनी दक्षिणी नेपाल के तराई क्षेत्र में स्थित है और बौद्ध धर्म के अनुयायियों के लिये पवित्र स्थल माना जाता है क्योंकि भगवान बुद्ध का जन्म वहां हुआ था.

नेपाल के विदेश मंत्रालय ने कहा कि देउबा प्रधानमंत्री मोदी और वहां जाने वाले शिष्टमंडल के सम्मान में भोज का आयोजन करेंगे .
इसमें कहा गया है कि लुम्बिनी में दोनों देशों के प्रधानमंत्री द्विपक्षीय वार्ता करेंगे तथा भारत-नेपाल सहयोग तथा साझा हितों से जुड़े मुद्दों पर विचारों का आदान प्रदान करेंगे .

प्रधानमंत्री मोदी की यात्रा से दोनों देशों के संबंध और मजबूत होंगे: नेपाल का विदेश मंत्रालय
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की नेपाल यात्रा से दोनों देशों के द्विपक्षीय संबंध और सदियों पुराने सामाजिक-सांस्कृतिक रिश्ते और मजबूत होंगे. नेपाल के विदेश मंत्रालय ने बृहस्पतिवार को एक बयान में यह बात कही. पड़ोसी देश के प्रधानमंत्री शेर बहादुर देउबा के आमंत्रण पर मोदी नेपाल की यात्रा कर रहे हैं. मोदी 16 मई को बुद्ध पूर्णिमा के अवसर पर गौतमबुद्ध के जन्म स्थान लुंबिनी का आधिकारिक दौरा करेंगे.

लुंबिनी में दोनों देशों के नेता द्विपक्षीय संबंधों पर चर्चा करेंगे. विदेश मंत्रालय की ओर से जारी बयान में बताया गया कि इस दौरान दोनों नेता भारत-नेपाल सहयोग और आपसी हितों के मुद्दों पर एक-दूसरे से विचार साझा करेंगे. बयान में कहा गया कि, ‘‘प्रधानमंत्री मोदी की आगामी नेपाल यात्रा से दोनों देशों के द्विपक्षीय संबंधों और युगों पुराने सामाजिक और सांस्कृतिक संबंधों में और मजबूती आएगी.’’

प्रधानमंत्री देउबा अपने भारतीय समकक्ष और अतिथि प्रतिनिधिमंडल के सदस्यों के सम्मान में दोपहर के भोजन की मेजबानी करेंगे. विदेश मंत्रालय ने बताया कि प्रधानमंत्री मोदी और देउबा पवित्र मायादेवी मंदिर में आयोजित प्रार्थना में भाग लेंगे और लुंबिनी के मठ क्षेत्र में बौद्ध संस्कृति और विरासत के लिए एक केंद्र के निर्माण की आधारशिला रखेंगे. दोनों नेता लुंबिनी में बुद्ध जयंती के शुभ अवसर पर आयोजित एक विशेष समारोह को संबोधित करेंगे.

इस मौके पर नेपाल के विदेश मंत्री नारायण खडका प्रधानमंत्री मोदी से मुलाकात करेंगे. भारत के प्रधानमंत्री के रूप में मोदी की नेपाल की यह पांचवीं यात्रा होगी. जुलाई 2021 में पांचवीं बार प्रधानमंत्री बनने के बाद देउबा अपनी पहली द्विपक्षीय विदेश यात्रा पर पिछले महीने दिल्ली में थे.

यात्रा के दौरान उनका उद्देश्य द्विपक्षीय संबंधों को नई गति प्रदान करना था. नेपाल पांच भारतीय राज्यों-सिक्किम, पश्चिम बंगाल, बिहार, उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड के साथ 1,850 किलोमीटर से अधिक की सीमा साझा करता है. हिमालयी राष्ट्र वस्तुओं के परिवहन और सेवाओं के लिए भारत पर बहुत अधिक निर्भर है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button