रिलायंस का शुद्ध लाभ चौथी तिमाही में 22.5% बढ़ा, 100 अरब डॉलर आय वाली पहली भारतीय कंपनी बनी

नयी दिल्ली. उद्योगपति मुकेश अंबानी की रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड (आरआईएल) का एकीकृत शुद्ध लाभ वित्त वर्ष 2021-22 की चौथी तिमाही में 22.5 प्रतिशत बढ़कर 16,203 करोड़ रुपये पर पहुंच गया. रिलायंस इंडस्ट्रीज ने शुक्रवार को शेयर बाजार को भेजी सूचना में बताया कि तेल शोधन मार्जिन में उछाल, दूरसंचार और डिजिटल सेवाओं में निरंतर वृद्धि तथा खुदरा कारोबार में मजबूत गति से कंपनी का लाभ बढ़ा है.

तेल से लेकर दूरसंचार क्षेत्र में कारोबार करने वाली कंपनी का वित्त वर्ष 2020-21 की जनवरी-मार्च तिमाही में एकीकृत शुद्ध लाभ 13,227 करोड़ रुपये था. इसमें हालांकि पिछली तिमाही (अक्टूबर-दिसंबर, 2021) की तुलना में 12.6 प्रतिशत घटा है. इसके साथ छह तिमाही से तिमाही आधार पर लाभ में जो वृद्धि हो रही थी, उस पर विराम लगा है. ब्रॉडबैंड इंटरनेट ग्राहकों की संख्या और आॅनलाइन खुदरा बिक्री में वृद्धि तथा नई ऊर्जा निवेश में विस्तार से भी रिलायंस की आय में बढ़ोतरी हुई है.

बाजार पूंजीकरण के लिहाज से देश की सबसे बड़ी कंपनी की एकीकृत आय बीते वित्त वर्ष की चौथी तिमाही के दौरान सालाना आधार पर 35 प्रतिशत बढ़कर 2.32 लाख करोड़ रुपये हो गई. पूरे वित्त वर्ष 2021-22 के दौरान रिलायंस इंडस्ट्रीज का शुद्ध लाभ बढ़कर 60,705 करोड़ रुपये पर पहुंच गया. वहीं आय बढ़कर 7.92 लाख करोड़ रुपये (102 अरब डॉलर) हो गई. रिलायंस इंडस्ट्रीज सौ अरब डॉलर सालाना आय वाली पहली भारतीय कंपनी बन गयी है.

कंपनी की आलोच्य तिमाही में कर पूर्व आय (ईबीआईटीडीए-ब्याज, कर, मूल्यह्रास, गैर-मौद्रिक संपत्ति लागत पूर्व आय) सालाना आधार पर 28 प्रतिशत बढ़कर 33,968 करोड़ रुपये हो गई. यह किसी भी तिमाही में उसका अब तक की सबसे अधिक आय है.

इसके अलावा रिलायंस रेटेल वेंचर्स लिमिटेड की ईबीआईटीडीए वित्त वर्ष 2021-22 की जनवरी-मार्च तिमाही में 2.4 प्रतिशत बढ़कर 3,705 करोड़ रुपये हो गई. खुदरा व्यापार में कंपनी का शुद्ध लाभ हालांकि समीक्षाहीन तिमाही में 4.8 प्रतिशत घटकर 2,139 करोड़ रुपये रहा. रिलायंस रिटेल ने 31 मार्च, 2022 को समाप्त तिमाही के दौरान 793 नए ‘स्टोर’ खोले जिससे उसके कुल स्टोर की संख्या बढ़कर 15,196 हो गई.

जियो मंच की डिजिटल इकाई का शुद्ध लाभ भी 23 प्रतिशत की वृद्धि के साथ आलोच्य तिमाही में 4,313 करोड़ रुपये पर आ गया. दूरसंचार खंड का प्रति उपयोगकर्ता औसत राजस्व (एआरपीयू) 21.3 प्रतिशत बढ़कर 167.6 रुपये प्रति माह बढ़ने से यह लाभ बढ़ा है.
रिलायंस इंडस्ट्रीज के अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक मुकेश अंबानी ने कहा, ‘‘कोविड-19 महामारी की चुनौतियों और भू-राजनीतिक संकट के बावजूद कंपनी ने वित्त वर्ष 2021-22 में काफी अच्छा प्रदर्शन किया है.’’

उन्होंने कहा, ‘‘डिजिटल सेवाओं और खुदरा क्षेत्रों ने मजबूत वृद्धि दिखाई , तेल से लेकर रसायनक कारोबार ने अपनी मजबूती साबित की है और ऊर्जा बाजारों में अस्थिरता के बावजूद मजबूत पुनरूद्धार दिखाया है.’’ अंबानी ने कहा, ‘‘बीते वित्त वर्ष के दौरान हमने रोजगार क्षेत्र में महत्वपूर्ण योगदान दिया और अपने सभी कारोबारों के जरिये 2.1 लाख नए लोगों को नौकरी प्रदान की.’’

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button