सायन अस्पताल में हॉस्टल के लिये 158 पेड़ों को काटे जाने की योजना, अभिनेता सयाजी शिंदे ने किया विरोध

मुंबई. जाने-माने अभिनेता सयाजी शिंदे ने बृहन्मुंबई महानगर पालिका (बीएमसी) द्वारा संचालित लोकमान्य तिलक सामान्य नगर अस्पताल के परिसर में एक छात्रावास के निर्माण के लिए 158 पेड़ों को काटने की योजना का विरोध किया है. इस अस्पताल को सायन अस्पताल के नाम से भी जाना जाता है.

अस्पताल प्रबंधन के लिये एक वीडियो जारी करते हुए शिंदे ने पूछा कि जीवन बचाने वाली एक स्वास्थ्य सुविधा कैसे ‘‘158 मौतों’’ की इजाजत दे सकती है. उन्होंने कहा कि पेड़ों की गिनती शुरू हो चुकी है और दो पेड़ काटे भी जा चुके हैं. उन्होंने कहा, ‘‘उन्होंने कहा, “मुझे उम्मीद है कि अस्पताल नए छात्रावास के निर्माण के लिए पेड़ों को काटने के अपने फैसले को छोड़ देगा. यह इन पेड़ों पर एक बम गिरने जैसा है. इन पेड़ों पर रहने वाले पक्षियों और अन्य जानवरों की दुनिया तबाह हो जाएगी.’’ अभिनेता ने पूछा कि क्या हॉस्टल के निर्माण का कोई और तरीका नहीं है.

संपर्क किए जाने पर सायन अस्पताल के एक अधिकारी ने पेड़ों को काटे जाने की योजना की पुष्टि की लेकिन कहा कि मौजूदा 1200 बिस्तरों की सुविधा वाले अस्पताल को भविष्य में 3000 बिस्तरों वाला अस्पताल बनाने के लिए इसकी आवश्यकता है. नाम न जाहिर करने की इच्छा व्यक्त करते हुए एक अधिकारी ने बताया कि अस्पताल के अवसंरचना प्रकोष्ठ ने वृक्ष प्राधिकरण से काम के लिये औपचारिक मंजूरी ली है.

अस्पताल ने यह भी कहा कि पेड़ों को काटना पीड़ादायक फैसला है और इस बात के प्रयास किए जा रहे हैं कि किसी दूसरी जगह वैज्ञानिक तरीके से उनका प्रतिरोपण कर उनसे से अधिकतर को बचाया जाए. एक अधिकारी ने बताया कि वर्तमान में अस्पताल के छात्रावास में 196 कमरे हैं और वहां छात्रों की संख्या 200 से अधिक है, जबकि पास के म्हाडा भवनों में 1,000 से अधिक रेजिडेंट डॉक्टरों के लिए व्यवस्था की गई है. उन्होंने कहा कि विस्तार योजना के तहत 20 मंजिला ढांचा तैयार किया जाएगा और काम शुरू करने से पहले मौजूदा छात्रावास व कुछ अन्य स्टाफ क्वार्टरों को ध्वस्त करना जरूरी है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button