श्रीलंका के प्रधानमंत्री के इस्तीफे के बाद उपजे राजनीतिक गतिरोध को दूर करने के लिए वार्ता जारी

कोलंबो. श्रीलंका के प्रधानमंत्री मंिहदा राजपक्षे के इस्तीफे के बाद उपजे राजनीतिक गतिरोध को समाप्त करने के लिए राष्ट्रपति गोटबाया राजपक्षे सत्तारूढ़ दल के असंतुष्ट नेताओं और मुख्य विपक्षी दल समागी जन बलवेगया (एसजेबी) के साथ बुधवार को भी बातचीत करेंगे।

लगभग दो दिन के राजनीतिक गतिरोध के बाद सभी हितधारक नए प्रधानमंत्री को नियुक्त करने के लिए बातचीत कर रहे हैं। देश में आर्थिक संकट के बीच मंिहदा (76) ने सोमवार को प्रधानमंत्री पद से त्यागपत्र दे दिया था। इससे पहले उनके समर्थकों तथा सरकार विरोधी प्रदर्शनकारियों के बीच झड़प हुई थी।

सत्तारूढ़ श्रीलंका पोडुजन पेरमुना (एसएलपीप) गठबंधन से अलग हुए स्वतंत्र गुट के वरिष्ठ नेता अनुरा यापा ने ‘पीटीआई-भाषा’ से कहा, ‘‘हम आज (बुधवार) और बातचीत करेंगे। उम्मीद है कि आज (राजनीतिक गतिरोध का) अंत हो जाएगा।’’ सूत्रों के अनुसार, मुख्य विपक्षी दल एसजेबी, सत्तारूढ़ दल के असंतुष्ट नेताओं और राष्ट्रपति गोटबाया राजपक्षे पिछले दो दिन से बातचीत कर रहे हैं जिसमें अभी तक कोई सफलता नहीं मिली है।

राष्ट्रपति ने ट्वीट किया, ‘‘इस समय सभी श्रीलंकाई लोगों को एकजुट हो जाना चाहिए ताकि हम आर्थिक, सामाजिक और राजनीतिक चुनौतियों को सामना कर सकें। मैं श्रीलंका के सभी लोगों से आग्रह करता हूं कि नस्ली और धार्मिक वैमनस्य फैलाने के प्रयासों को खारिज करें। संवाद, सहिष्णुता और साथ मिलकर काम करना जरूरी है।’’

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button