यूक्रेन के साथ वार्ता में ‘व्यापार जैसी भावना’ दिख रही : रूस के विदेश मंत्री

कीव.  रूस के विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव ने कहा है कि यूक्रेन के साथ बातचीत में ‘व्यापार जैसी भावना’ उभर रही है जो कि अब युद्धग्रस्त देश के लिए तटस्थ स्थिति पर केंद्रित है. वरोव ने बुधवार को रूसी चैनल ‘आरबीके टीवी’ से कहा, ‘‘सुरक्षा गारंटी के संबंध में तटस्थ स्थिति पर गंभीरता से चर्चा की जा रही है.’’ उन्होंने कहा, ‘‘ऐसे ठोस सूत्र हैं जिसपर मेरे विचार से सहमति बन सकती है.’’

लावरोव ने विस्तार से नहीं बताया, लेकिन कहा कि ‘‘व्यापार जैसी भावना’’ वार्ता में उभरने लगी है जो उम्मीद बंधाती है कि हम इस मुद्दे पर सहमत हो सकते हैं.’’ यूक्रेन के साथ नवीनतम दौर की वार्ता में रूस के मुख्य वार्ताकार ने कहा है कि संबंधित पक्ष एक छोटे, गुटनिरपेक्ष सेना के साथ भविष्य के यूक्रेन के लिए एक संभावित समझौते पर चर्चा कर रहे हैं. दोनों देशों के प्रतिनिधियों के बीच वार्ता सोमवार से शुरू हुई और बुधवार को भी जारी रहेगी.

रूस की समाचार एजेंसियों के अनुसार, रूसी वार्ताकार व्लादिमीर मेंिडस्की ने कहा, ‘‘यूक्रेन की सेना के आकार से जुड़े मुद्दों के संबंध में चर्चा की जा रही है.’’ संबंधित मुद्दे पर यूक्रेन के अधिकारियों ने अभी कोई टिप्पणी नहीं की है. यह स्पष्ट नहीं है कि अगर भविष्य में यूक्रेनी सेना रूस के प्रति शत्रुतापूर्ण रुख अपनाती है तो ऐसा विकल्प कैसे काम करेगा. यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोदिमीर जेलेंस्की ने मंगलवार को कहा कि उनके देश को पता है कि वह नाटो में शामिल नहीं हो सकता.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button