जम्मू कश्मीर को आतंक एवं भ्रष्टाचार से मुक्त बनाना है लक्ष्य : उपराज्यपाल

उधमपुर. उपराज्यपाल मनोज सिन्हा ने रविवार को कहा कि जम्मू कश्मीर प्रशासन का लक्ष्य इस केंद्रशासित प्रदेश को आतंकवाद एवं भ्रष्टाचार से मुक्त एक विकसित समाज बनाना है. उन्होंने यहां सहायक प्रशिक्षण केंद्र में सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) के 636 रंगरूटों के प्रमाणन-सह पांिसग आउट परेड में अपने संबोधन में सीमापार से घुसपैठ की कोशिशें तथा हथियारों एवं मादक पदार्थों समेत विभिन्न चुनौतियों का बहादुरी से मुकाबला करने को लेकर सुरक्षाबलों की भूमिका की तारीफ की.

सिन्हा ने कहा, ‘ जम्मू कश्मीर विविधता से भरा है, जो हमारी ताकत है. हमने सभी चुनौतियों का सफलतापूर्वक सामना किया है एवं हमारे सुरक्षाबल चौकन्ने हैं. उन्होंने राष्ट्र-विरोधी तत्वों के नापाक मंसूबे को विफल कर नये जम्मू कश्मीर के निर्माण में अहम भूमिका निभायी है.’’ परेड का निरीक्षण एवं मार्च पास्ट की सलामी लेने के उपरांत उपराज्यपाल ने कहा कि दशकों पुराने आतंकी इकोसिस्टम को पूरी तरह ध्वस्त करने की जरूरत है.

उन्होंने कहा, ‘‘जम्मू कश्मीर को भ्रष्टाचार एवं भय से मुक्त विकसित समाज बनाने के लिए हमने भ्रष्टाचार, आतंकवाद वित्तपोषण एवं आतंकी इकोसिस्टम पर निर्णायक प्रहार करने की अपनी कोशिश जारी रखी है.’’ उन्होंने बीएसएफ के रंगरूटों से बल एवं लोगों की परंपरा एवं आशाओं पर खरा उतरने तथा पेशेवर ढंग से अपनी ड्यूटी करने की अपील की ताकि कोई भी दुश्मन, देश की सीमा का उल्लंघन नहीं कर सके.’’

उपराज्यपाल ने कहा, ‘‘मादक पदार्थ का व्यसन एक बड़ी चुनौती है क्योंकि मादक पदार्थ एक साजिश के तहत पाकिस्तान से तस्करी के रास्ते भेजा जाता है. आपको मादक पदार्थों की तस्करी को रोकने में बड़ी भूमिका निभानी होगी.’’ रंगरूटों को बधाई देते हुए उन्होंने कहा, ‘‘आप पूरी तरह सक्षम एवं तैयार हैं…. देश देख रहा है कि बीएसएफ पर्वतीय क्षेत्रों, मैदानों, मरूभूमि एवं घने जंगल में पूरे समर्पण के साथ अपनी ड्यूटी कर रहा है . यह बल देश की क्षेत्रीय अखंडता एवं संप्रभुता के हर खतरे से डटकर लोहा ले रहा है.’’

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button