छत्तीसगढ़ में तेन्दूपत्ता संग्रहण का कार्य शुरू

रायपुर. छत्तीसगढ़ में चालू वर्ष 2022 के दौरान तेन्दूपत्ता संग्रहण का कार्य शुरू हो गया है. राज्य में चालू वर्ष के दौरान 17 लाख 32 हजार मानक बोरा तेन्दूपत्ता के संग्रहण का लक्ष्य है. इनमें अब तक एक लाख 75 हजार 400 मानक बोरा तेन्दूपत्ता का संग्रहण हो चुका है.

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की मंशा के अनुरूप वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्री मोहम्मद अकबर के मार्गदर्शन में राज्य में तेन्दूपत्ता संग्रहण कार्य के सुचारू संचालन के लिए सभी आवश्यक तैयारियां पूर्ण कर ली गई है. गौरतलब है कि छत्तीसगढ़ में वर्ष 2022 में तेन्दूपत्ता संग्रहण दर 4 हजार रूपए प्रति मानक बोरा निर्धारित की गई है. राज्य में तेन्दूपत्ता संग्रहण कार्य से लगभग 13 लाख आदिवासी-वनवासी संग्राहक परिवारों को सीधा-सीधा लाभ मिलेगा. इस संबंध में वन मंत्री मोहम्मद अकबर ने प्रधान मुख्य वन संरक्षक एवं वन बल प्रमुख राकेश चतुर्वेदी को सभी वन मंडलों में आवश्यक कार्रवाई सुनिश्चित करने के निर्देश दिए हैं.

प्रबंध संचालक राज्य लघु वनोपज संघ संजय शुक्ला ने बताया कि अब तक जगदलपुर वन वृत्त के अंतर्गत बीजापुर में एक हजार 761 मानक बोरा, सुकमा में 44 हजार 44 मानक बोरा, दंतेवाड़ा में 17 हजार 475 मानक बोरा तथा जगदलपुर में 15 हजार 295 मानक बोरा तेन्दूपत्ता का संग्रहण हो चुका है. इसी तरह कांकेर वन वृत्त के अंतर्गत दक्षिण कोण्डागांव में 16 हजार मानक बोरा केशकाल में 17 हजार 455 मानक बोरा, नारायणपुर में 14 हजार 703 मानक बोरा तथा कांकेर में एक 641 मानक बोरा तेन्दूपत्ता का संग्रहण हुआ है.

दुर्ग वन वृत्त के अंतर्गत अब तक खैरागढ़ में एक हजार 562 मानक बोरा तथा रायपुर वन वृत्त के अंतर्गत धमतरी में 8 हजार 83 मानक बोरा, गरियाबंद में 35 हजार 978 मानक बोरा तथा बलौदाबाजार में 477 मानक बोरा तेन्दूपत्ता का संग्रहण हो चुका है. बिलासपुर वन वृत्त के अंतर्गत बिलासपुर में 190 मानक बोरा, धरमजयगढ़ में 161 मानक बोरा तथा कोरबा में 333 मानक बोरा तेन्दूपत्ता का संग्रहण किया गया है. इसके अलावा सरगुजा वन वृत्त के अंतर्गत जशपुर में 233 मानक बोरा तेन्दूपत्ता का संग्रहण हो चुका है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button