West Bangal: भाजपा को टीएमसी ने नहीं, वामदलों और कांग्रेस की रणनीति ने हराया, आंकड़े बयां कर रहे हैं सच्चाई

नई दिल्ली. भाजपा की प्रचंड प्रचार की रणनीति भी ममता बनर्जी को रोक नहीं पाई। वे भारी बहुमत से जीत हासिल कर एक बार फिर से पश्चिम बंगाल की सत्ता संभालने की तैयारी कर रही हैं। सीधे तौर पर यही लगता है कि ममता बनर्जी की जमीनी संघर्ष वाली वाली छवि भाजपा के भारी-भरकम योद्धाओं पर भारी पड़ी और वे विजयी रहीं।

लेकिन पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव में विभिन्न राजनीतिक दलों को मिले वोट शेयर की तुलना करें तो समझ आता है कि टीएमसी की यह जीत उसकी अपनी जीत से कहीं ज्यादा उस रणनीति की जीत है, जिसके तहत विपक्ष ने वोटों को बिखरने नहीं दिया।

आंकड़े बताते हैं कि अगर वामदलों और कांग्रेस ने चुनाव में अपना पूरा जोर लगाया होता और 10 प्रतिशत भी ज्यादा वोट हासिल किया होता तो चुनाव में भाजपा और तृणमूल कांग्रेस के बीच कांटे की लड़ाई होती जिसका विजेता कोई भी हो सकता था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close