केरल सोना तस्करी मामले में रोड़े अटकाने के लिए हर जतन कर रहे हैं विजयन: भाजपा

नयी दिल्ली. भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने सोना तस्करी मामले में केरल के मुख्यमंत्री पिनराई विजयन पर हमले तेज करते हुए सोमवार को आरोप लगाया कि वह इस मामले की जांच में रोड़े अटकाने के लिए हर जतन कर रहे हैं क्योंकि इस मामले में शक की सूई उन पर और उनके परिवार की दिशा में जा रही है.

सोना तस्करी मामले में मुख्य आरोपी स्वपना सुरेश ने मुख्यमंत्री और उनके परिवार पर तस्करी जैसी गतिविधि में शामिल होने का आरोप लगाया था. भाजपा ने सुरेश के आरोपों को ‘‘विस्फोटक और अप्रत्याशित’’ करार दिया जबकि मुख्यमंत्री ने इन आरोपों को ‘‘बेबुनियाद’’ करार दिया है.

केंद्रीय मंत्रियों राजीव चंद्रशेखर और वी मुरलीधरन तथा प्रवक्ता टॉम वडक्कन ने यहां पार्टी मुख्यालय में आयोजित एक संयुक्त संवाददाता सम्मेलन में कहा कि मुख्यमंत्री को सामने आकर अपने ऊपर लगे आरोपों पर स्पष्टीकरण देना चाहिए ना कि जनता और मीडिया से दूरी बरतनी चाहिए. चंद्रशेखर ने कहा कि वर्ष 2020 में जब यह मामला प्रकाश में आया था तब खुद विजयन ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लिखे एक पत्र में कहा था कि यह मामला बेहद संगीन है और इसकी जांच की जानी चाहिए.

उन्होंने कहा, ‘‘आज केरल की सरकार जांच में अड़ंगे डालने के लिए सब कुछ कर रही है… वह पुलिस मशीनरी से लेकर हर चीज का इस्तेमाल कर रहे हैं ताकि मामले को टाला जा सके, रोका जा सके… एक मुख्यमंत्री से ऐसी अपेक्षा नहीं की जाती है… यह उस मुख्यमंत्री की कार्रवाई नहीं हो सकती है जो सच को सामने लाना चाहते हों… यह कार्रवाई एक ऐसे मुख्यमंत्री की है जो सच्चाई को छुपाना चाहते हैं.’’ चंद्रशेखर ने कहा, ‘‘हम निष्पक्ष जांच चाहते हैं. हम चाहते हैं कि मुख्यमंत्री इस मामले को पटरी से उतारने की कोशिशें नहीं करें. सच्चाई सामने आने दीजिए और उन सच्चाइयों के आधार पर कानून को अपना काम करेगा.

उन्होंने कहा कि शक की सुई मुख्यमंत्री, उनके कार्यालय तथा उनके परिवार की दिशा में जा रही है तो उन्हें खुद को निर्दोष साबित करना चाहिए. उन्होंने कहा कि मामले की जांच सुनिश्चित करने के लिए उन्हें हर आवश्यक कदम उठाने चाहिए व सहयोग करना चाहिए.

उन्होंने कहा कि केरल में पूर्व में मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) और वाम दलों से कई मुख्यमंत्री हुए और भाजपा ने राजनीतिक रूप से उनका विरोध भी किया लेकिन कभी ऐसा नहीं हुआ कि माकपा के किसी मुख्यमंत्री ने अपने कार्यालय का दुरुपयोग किया हो.
मुरलीधरन ने कहा कि मुख्यमंत्री अपने ऊपर लगे आरोपों से इस कदम घबरा गए हैं कि उन्होंने केरल में काले रंग पर ही प्रतिबंध लगा दिया है.

उन्होंने कहा, ‘‘पिछले सप्ताह से हम केरल में अप्रत्याशित घटनाक्रम देख रहे हैं. स्थिति ऐसी हो गई है कि वहां काले रंग पर ही प्रतिबंध लगा दिया गया है…यह राज्य में फासीवाद की पराकाष्ठा है.’’ उन्होंने सवाल किया कि मुख्यमंत्री इतने घबराए हुए क्यों है जब उनके पास छिपाने के लिए कुछ नहीं है? उन्होंने कहा कि उन्हें अपने ऊपर लगे आरोपों पर मीडिया और जनता का सामना करना चाहिए.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button

हर घर तिरंगा अभियान


This will close in 10 seconds