पश्चिमी देशों को यूक्रेन की मदद के लिये और अधिक साहस दिखाना चाहिये: जेलेंस्की

ल्वीव/कीव. यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोदिमीर जेलेंस्की ने आरोप लगाया कि पश्चिमी देशों में, रूसी हमलों का सामना कर रहे उनके देश की मदद करने के मामले में साहस की कमी है. जेलेंस्की ने यूक्रेन को लड़ाकू विमान और टैंक देने का अनुरोध किया. जेलेंस्की ने पोलैंड में शनिवार को अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन और यूक्रेन के अधिकारियों के बीच हुई बैठक के बाद पश्चिमी देशों पर निशाना साधा. उन्होंने कहा पश्चिमी देश यूक्रेन को विमान और अन्य रक्षा उपकरण प्रदान करने के मामले में टालमटोल कर रहे हैं, दूसरी ओर रूसी मिसाइल हमलों में आम नागरिक फंसे हुए हैं और मारे जा रहे हैं.

जेलेंस्की ने यूक्रेन के मारियुपोल शहर की घेराबंदी की ओर इशारा करते हुए शनिवार तड़के एक वीडियो संबोधन में कहा, ” मैंने आज मारियुपोल के रक्षकों के बात की. मैं निरंतर उनके संपर्क में हूं. उनका संकल्प, वीरता और दृढ़ता अचंभित करने वाली है. जो चंद विमान और टैंक प्रदान करने के बारे में 31 दिन से सोच रहे हैं, उनमें उनका केवल एक प्रतिशत साहस है.” यूक्रेन पर रूस के आक्रमण को 32 दिन हो गए हैं. कई क्षेत्रों में रूस ने हमले रोक दिये हैं. रूसी सेना का लक्ष्य जल्द से जल्द राजधानी कीव को घेरना है.

हालांकि इस दौरान उसे यूक्रेन की तरफ से जबरदस्त प्रतिरोध का सामना कर पड़ रहा है. यूक्रेन की सेना भी अमेरिका और पश्चिमी देशों की सहायता से रूसी सेना का मजबूती से सामना कर रही है. हालांकि पश्चिमी देशों की ओर से यूक्रेन को दी जा रही सैन्य मदद में लड़ाकू विमान शामिल नहीं है. अमेरिका के जरिये यूक्रेन को पोलैंड के विमान भेजने के प्रस्ताव को नाटो की ंिचताओं के चलते खारिज कर दिया गया है.

लुहांस्क के अलगाववादी नेता रूस में शामिल होने के लिए कराना चाहते हैं जनमत संग्रह

पूर्वी यूक्रेन में लुहांस्क क्षेत्र के एक अलगाववादी नेता ने कहा है कि उनका क्षेत्र रूस में शामिल होने के लिए जनमत संग्रह करना चाहता है. ‘लुहांस्क पीपुल्स रिपब्लिक’ के प्रमुख लियोनिद पासेचनिक ने रविवार को कहा कि वह आगामी दिनों में एक जनमत संग्रह करा सकते हैं, जिसमें भाग लेने वाले लोगों से पूछा जा सकता है कि क्या वे इस क्षेत्र को रूस का हिस्सा बनाने का समर्थन करते हैं.

रूस ने लुहांस्क और पड़ोसी दोनेत्सक क्षेत्रों में अलगाववादियों का समर्थन किया है क्योंकि 2014 में क्रीमिया पर मास्को के कब्जे के तुरंत बाद वहां विद्रोह हुआ था. रूस ने 21 फरवरी को इन क्षेत्रों की ‘स्वतंत्रता’ को मान्यता दी और फिर 24 फरवरी को यूक्रेन पर आक्रमण शुरू करने को लेकर सैन्य सहायता के लिए उनके आ’’ान का हवाला दिया.

र्बिलन : जर्मनी के राष्ट्रपति फ्रैंक-वाल्टर स्टीनमीयर यूक्रेन के साथ एकजुटता दिखाने के लिए ‘‘संगीत कार्यक्रम’’ की मेजबानी कर रहे हैं जिसमें यूक्रेन, रूस और बेलारूस के संगीतकार हिस्सा ले रहे हैं. र्बिलन में राष्ट्रपति के बेलेव्यू पैलेस में ‘र्बिलन फिलहारमोनिक’ की प्रस्तुति में यूक्रेन, रूस और पोलैंड के संगीतकारों ने धुन बजाए. स्टीनमीयर ने वीडियो के जरिए कार्यक्रम को संबोधित किया क्योंकि वह कोरोना वायरस से संक्रमित हो गए हैं. राष्ट्रपति ने रविवार के आयोजन को ‘आजादी और शांति का संकेत’ बताया है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button