पांच साल के कार्यकाल के लिए सत्ता में आए तो बदल देंगे जम्मू-कश्मीर की ‘तकदीर और तस्वीर’ : भाजपा

जम्मू. भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की जम्मू-कश्मीर इकाई के अध्यक्ष रविंदर रैना ने बुधवार को कहा कि यदि पार्टी केंद्र शासित प्रदेश में सत्ता में आती है तो पूरी तरह इसकी तस्वीर और तकदीर बदल देगी. भाजपा नेता का यह बयान ऐसे समय में आया है जब जम्मू-कश्मीर में विधानसभा चुनाव का रास्ता साफ करने के लिए परिसीमन आयोग जल्द ही केंद्र को अपनी अंतिम रिपोर्ट सौंप सकती है.

रविंदर रैना ने कहा कि देश के विभिन्न हिस्सों में रह रहे कश्मीरी पंडित निश्चित रूप से पूरे सम्मान के साथ और अपनी शर्तों पर घाटी में अपने घरों को लौटेंगे. रैना ने यहां पार्टी मुख्यालय में एक कार्यक्रम से इतर संवाददाताओं से कहा, ‘‘हमें उम्मीद है कि परिसीमन आयोग छह मई से पहले केंद्रीय कानून मंत्रालय को अपनी अंतिम रिपोर्ट सौंप देगा, जिसके बाद जम्मू-कश्मीर में विधानसभा चुनाव होंगे.’’ इस अवसर पर रैना और पार्टी के महासचिव (संगठन) अशोक कौल की मौजूदगी में जम्मू-कश्मीर विचार मंच के सदस्य हीरा लाल भट, अशोक कंगन, अधिवक्ता एस के भट और मोती लाल भट सहित कई प्रमुख कश्मीरी पंडित भाजपा में शामिल हुए.

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि परिसीमन आयोग न्यायमूर्ति (सेवानिवृत्त) रंजना देसाई की अध्यक्षता वाली एक स्वायत्त संस्था है और उसने जम्मू-कश्मीर में विधानसभा और संसदीय क्षेत्रों की सीमाओं को फिर से परिभाषित करने के अपने कार्य को पूरा करने के लिए कड़ी मेहनत की है.

उन्होंने कहा, ‘‘हमें पूरा यकीन है कि आयोग की अंतिम रिपोर्ट उन लोगों और उनके प्रतिनिधियों की सभी ंिचताओं को दूर करेगी जिन्होंने मसौदा प्रस्ताव पर अपने सुझाव और आपत्तियां रखी हैं.’’ रैना ने भाजपा कार्यकर्ताओं से जम्मू-कश्मीर के हर घर तक पहुंचने और केंद्र शासित प्रदेश के लोगों के कल्याण के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली केंद्र सरकार द्वारा किए गए कार्यों की जानकारियों को आम लोगों तक पहुंचाने की अपील भी की.

उन्होंने कहा, ‘‘अनुच्छेद-370 जम्मू-कश्मीर और उसके लोगों के समग्र विकास के लिए सबसे बड़ा रोड़ा था. नेशनल कॉन्फ्रेंस, कांग्रेस और पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) अनुच्छेद-370 के तहत विशेष दर्जे के एकमात्र लाभार्थी हैं, जिन्होंने अनुच्छेद-370 के जरिए इतने वर्षों तक 200 से अधिक केंद्रीय कानूनों के लाभों से जम्मू-कश्मीर के लोगों को वंचित रखा तथा गुर्जरों, बकरवाल और पहाड़ी मुसलमानों सहित हर वर्ग के साथ भेदभाव किया.’’ भाजपा नेता ने कहा कि अनुच्छेद-370 के निरस्त होने के बाद घाटी के लोगों को केंद्र की विभिन्न कल्याणकारी योजनाओं का लाभ मिल रहा है.

रैना ने कहा, ‘‘हमने पिछले दशकों में नेशनल कॉन्फ्रेंस, कांग्रेस और पीडीपी का शासन देखा है. अगर भाजपा को पांच साल तक जम्मू-कश्मीर पर शासन करने का मौका दिया गया, तो हम ‘सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास’ के मंत्र के साथ जम्मू-कश्मीर की तकदीर और तस्वीर को बदल देंगे.’’ भाजपा प्रदेश अध्यक्ष ने विश्वास व्यक्त किया कि पार्टी अगले विधानसभा चुनाव में 50 से अधिक सीटें जीतेगी और अपने मुख्यमंत्री के साथ सरकार बनाएगी.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button