सेना में भर्ती के इच्छुक युवक ने 60 किलोमीटर की दौड़ लगायी, ओडिशा में अग्निपथ के विरूद्ध प्रदर्शन

भुवनेश्वर. ओडिशा में ‘अग्निपथ’ योजना के विरूद्ध प्रदर्शन के तहत नबरंगपुर में सेना में भर्ती के आकांक्षी उम्मीदावार ने 60 किलोमीटर की दौड़ लगायी जबकि गंजाम जिले के ब्रह्मपुर में बड़ी संख्या में प्रदर्शनकारी राजस्व संभागीय आयुक्त कार्यालय के समीप धरने पर बैठ गये.

ब्रह्मपुर में प्रदर्शनकारियों ने ‘अग्निपथ’ पहल वापस लेने की मांग के समर्थन में नारे लगाये और सशस्त्र बलों में चयन के बाद चार साल के बजाय कम से कम 15 साल की नौकरी की मांग की. उनमें ऐसे भी युवक थे जो पहले शारीरिक परीक्षण उत्तीर्ण कर चुके हैं.
यह प्रदर्शन पूरी तरह शांतिपूर्ण रहा. प्रशासन ने विभिन्न राज्यों में हो रहे हिंसक प्रदर्शन के मद्देनजर व्यापक सुरक्षा इंतजाम कर रखा था.

प्रदर्शनकारी दिलीप कुमार नहाका ने कहा, ‘‘मैं पहले ही एनसीसी में तीन साल बिता चुका हूं और मुझे उसके ए, बी और सी प्रमाणपत्र मिल चुके हैं. मुझ जैसे कई युवक रक्षा सेवाओं की तैयारी करते हुए दो साल बिता चुके हैं. अब सरकार कह रही है कि हमारा कार्यकाल बस चार साल का होगा.’’ उसने कहा कि इसके अलावा, कई प्रदर्शनकारी पहल ही 23 साल की वर्तमान उपरी आयु सीमा पार कर चुके हैं क्योंकि रक्षा भर्ती कोविड-19 के चलते दो साल तक हुई ही नहीं. उसने कहा, ‘‘ सरकार सिविल परीक्षा जैसे अन्य सभी परीक्षाएं करवा रही हैं और आईपीएल मैच भी हो रहे हैं, लेकिन उसने महामारी के नाम पर सशस्त्र बलों में भर्ती कई बार टाल दी. ’’कई प्रदर्शनकारियों ने दिलीप कुमार का समर्थन किया.

नबरंगपुर जिले में नवीन विश्वास ने नबरंगपुर से उमोरकोटे के पटनायक स्टेडियम तक 60 किलोमीटर की दौड़ लगायी. रक्षा सेवाओं में शामिल होने के लिए वह शारीरिक परीक्षा उत्तीर्ण कर चुका है और अब वह लिखित परीक्षा का इंतजार कर रहा है. उसने कहा, ‘‘ मैं प्रत्याशियों से हिंसा नहीं करने का अनुरोध करता हूं. विरोध जताने के अन्य तरीके हैं. ’’ उसकी मां विशाखा ने कहा, ‘‘ मैं सरकार से मां भारती की सेवा करने के लिए तैयार युवाओं के सपने चकनाचूर नहीं करने की अपील करती हूं.’’

ओडिशा के कटक में शुक्रवार को अग्निपथ विरोधी प्रदर्शन के दौरान हिंसा हुई और बालासोर जिले में एक प्रत्याशी ने कथित रूप से आत्महत्या कर ली. इस बीच पूर्व तटीय रेलवे ने अग्निपथ के विरूद्ध देशव्यापी प्रदर्शन के मद्देनजर कम से कम 18 ट्रेनें रद्द कर दी तथा कई अन्य को गंतव्य से पहले समाप्त कर दिया. उसकी विज्ञप्ति के अनुसार उन ट्रेनों पुरी-पटना एक्सप्रेस, संभलपुर-जम्मू तवी एक्सप्रेस , पुरी नयी दिल्ली पुरूषोत्तम एक्सप्रेस, भुवनेश्वर सिकंदराबाद विशाखा एक्सप्रस आदि शामिल हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button