जेलेंस्की ने संयुक्त राष्ट्र में रूसी सेना पर युद्ध अपराध का आरोप लगाया

बुचा. यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोदिमीर जेलेंस्की ने रूस पर यूक्रेन में जघन्य अत्याचार करने का आरोप लगाया. उन्होंने मंगलवार को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में कहा कि इसके लिए जिम्मेदार लोगों पर युद्ध अपराध के आरोप में एक ऐसे न्यायाधिकरण में मामला चलाया जाना चाहिए, जैसा द्वितीय विश्व युद्ध के बाद न्यूरेमबर्ग में स्थापित किया गया था.

जेलेंस्की ने यूक्रेन से वीडियो कॉन्फ्रेंंिसग के जरिये अपनी बात रखते हुए कहा कि आम नागरिकों को प्रताड़ित किया गया, उनके सिर में पीछे से गोली मारी गई, मकानों पर हथगोले फेंककर उनकी हत्या की गई और उन्हें टैंक से कुचला गया. उन्होंने कहा, ‘‘रूसी सैनिकों ने यूक्रेनी नागरिकों के हाथ-पैर काटे, उनका गला रेता. बच्चों के सामने महिलाओं से दुष्कर्म किया गया, हत्याएं की गईं. उनकी जुबानें खींच ली गईं, क्योंकि आक्रांताओं को वह सुनने को नहीं मिला, जो वे उनसे सुनना चाहते थे.’’ जेलेंस्की ने इसे द्वितीय विश्व युद्ध के बाद की सबसे भयानक त्रासदी बताया.

पिछले कुछ दिनों में बुचा से ऐसी तस्वीरें सामने आ रही हैं, जो संकेत देती हैं कि कीव के बाहरी इलाके से वापस जाने से पहले रूसी सैनिकों ने नरसंहार को अंजाम दिया है. इन तस्वीरों ने दुनियाभर में खलबली मचा दी है और पश्चिमी देशों ने रूसी राजनयिकों को निकालना शुरू का दिया है. उन्होंने रूस पर और प्रतिबंध लगाने का आह्वान किया है. जलेंस्की ने कहा कि हत्या करने वालों और इसका आदेश देने वालों के खिलाफ एक ऐसे न्यायाधिकरण में ‘युद्ध अपराधों के लिए मामला चलाया जाना चाहिए’, जैसा जर्मनी में युद्ध के बाद बनाया गया था.

वहीं, संयुक्त राष्ट्र में रूस के राजदूत वसीले नेबेंजिया ने कहा कि जब बुचा रूस के नियंत्रण में था, तब वहां एक भी स्थानीय व्यक्ति के खिलाफ ंिहसा नहीं की गई थी. उन्होंने कहा कि सड़क पर पड़े शवों के वीडियो फुटेज यू्क्रेन ने फर्जी तरीके से तैयार किए हैं.

मैक्रों रूसी सैनिकों द्वारा किए गए युद्ध अपराधों की जांच में मदद को तैयार : जेलेंस्की

यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोदिमीर जेलेंस्की ने कहा कि फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों ने बुचा और अन्य स्थानों पर रूसी सैनिकों द्वारा किए गए अपराधों की जांच के लिए तकनीकी एवं विशेषज्ञ सहायता प्रदान करने पर सहमति व्यक्त की है. जेलेंस्की ने मंगलवार को कहा कि उन्होंने मैक्रों से दक्षिणी शहर मारियुपोल में फंसे लोगों को निकालने में मदद करने की अपील भी की है.

उन्होंने तुर्की चैनल ‘हैबर्टर्क’ को दिए गए एक साक्षात्कार में रूस पर मारियुपोल में अपने कृत्यों को छिपाने की कोशिश करने का आरोप लगाया और कहा कि रूस अपने अपराध के सबूत मिटाने तक शहर में मानवीय सहायता नहीं पहुंचने देना चाहता था. कीव के आसपास के शहरों से रूसी सेना के हटने के बाद वहां कई नागरिकों के शव मिलने का संदर्भ देते हुए जेलेंस्की ने यह बयान दिया.

उन्होंने उम्मीद जताई कि यूरोपीय आयोग की अध्यक्ष उर्सुला वॉन डेर लेयेन और यूरोपीय संघ की विदेश नीति के प्रमुख जोसेप बोरेल जल्द ही कीव का दौरा करेंगे. जेलेंस्की ने मंगलवार देर रात यह भी कहा कि उन्होंने और पश्चिमी नेताओं ने रूस के खिलाफ प्रतिबंधों के एक नए दौर पर चर्चा की है. उन्होंने बताया कि रूसी सेना अब भी पूर्वी हिस्से से यूक्रेन में दाखिल होने की कोशिश कर रही है, लेकिन यूक्रेनी सेना उसका मुकाबला कर रही है.

रूस-यूक्रेन से जुड़े महत्वपूर्ण घटनाक्रम
– यूक्रेन के बुचा में ढेरों शव मिलने की विश्व भर में ंिनदा.
– यूक्रेन के राष्ट्रपति जेलेंस्की ने संयुक्त राष्ट्र में रूस पर युद्ध अपराध का आरोप लगाया.
– यूरोपीय संघ ने नए प्रतिबंधों को लेकर रूसी कोयला प्रतिबंध का प्रस्ताव रखा है.
– अमेरिका, उसके सहयोगी, रूस में नए निवेश पर प्रतिबंध लगाएंगे.
– हार्वर्ड छात्रों की एक ‘वेबसाइट’ यूक्रेन के शरणार्थियों को घर खोजने में मदद कर रही है.
– जापान के शीर्ष दूत पोलैंड से 20 यूक्रेनी नागरिकों को लेकर आए.

कीव (यूक्रेन), यूक्रेन के एक अधिकारी ने बताया कि रूसी सैनिकों ने 1,496 नागरिकों को निजी वाहन से मारियुपोल शहर से निकलने की अनुमति दी है, लेकिन निकासी बसों के एक काफिले को प्रवेश करने से रोक दिया.

ल्वीव (यूक्रेन), पश्चिमी यूक्रेन में एक क्षेत्रीय अधिकारी ने बताया कि एक रूसी मिसाइल ने उर्वरक टैंकों को निशाना बनाया, जिससे भूजल प्रदूषित हो गया.

मॉस्को (रूस), रूस के विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव यूक्रेन की सरकार पर लड़ाई समाप्त करने को लेकर होने वाली बातचीत में बाधा उत्पन्न करने का आरोप लगाते हुए, चेतावनी दी कि रूस उनके जाल में नहीं फंसेगा.
सर्गेई ने विशेष रूप से चेतावनी दी कि रूस, एक संभावित शांति समझौते के लिए रूसी सैनिकों की तत्काल वापसी और फिर उसके बाद जनमत संग्रह कराने सहित यूक्रेनी मांग को स्वीकार नहीं करेगा.
सर्गेई ने मंगलवार को कहा कि अगर शांति समझौता मंजूर नहीं हो पाता, तो फिए नए समझौते पर बातचीत करनी होगी. उन्होंने कहा कि रूस इन सब चीजों में नहीं फंसना चाहता.

लंदन (ब्रिटेन), ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने रूसी लोगों से एक प्रत्यक्ष अपील में उनसे युद्ध की सच्चाई का पता लगाने का आग्रह किया और आक्रमण को उन्होंने ‘‘रूस के सम्मान पर एक दाग’’ बताया.
जॉनसन ने एक वीडियो संदेश में कहा कि यूक्रेन पर आक्रमण के बारे में रूसियों को अंधेरे में रखा जा रहा है, क्योंकि रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ‘‘जानते हैं कि यदि आपको पता चल जाए कि क्या हो रहा है, तो आप उनके आक्रमण का समर्थन नहीं करेंगे.’’ —-

वांिशगटन (अमेरिका), यूक्रेन में रूस के ‘‘युद्ध अपराधों’’ के प्रतिशोध में, अमेरिका और उसके यूरोपीय सहयोगी बुधवार को रूस में नए निवेश पर रोक सहित कड़े नए प्रतिबंध लगाएंगे. एक अधिकारी ने नाम उजागर ना करने की शर्त पर यह जानकारी दी.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button